Dadu Tales

Three Little Pigs Story In Hindi

Three Little Pigs Story In Hindi Bhediya Ki Kahani

Three Little Pigs Story In Hindi

Kids Stories In Hindi – तीन छोटे सुअर

एक बार की बात है। एक बूढ़ी सूअर थी, जिसके तीन छोटे सूअर थे। उन्हें खिलाने के लिए उसके पास पर्याप्त भोजन नहीं था। क्योंकि वह बूढ़ी हो चुकी थी।

इसलिए जब वह कुछ बड़े हुए, तो उसने उन्हें भोजन की तलाश के लिए बाहरी दुनिया में भेज दिया।

पहला सूअर बहुत आलसी था। वह बिल्कुल भी काम नहीं करना चाहता था। उसने अपना घर घास-फूस से बना लिया।

दूसरा सूअर थोड़ा मेहनती था। लेकिन वह कुछ आलसी भी था। उसने अपना घर लकड़ी से बनाया। फिर वह दोनों नाचते, गाते और दिन भर साथ-साथ खेलते रहते थे।

तीसरे सूअर ने पूरे दिन कड़ी मेहनत की और ईंटों से अपना घर बनाया। यह घर बहुत मजबूत था। और इसमें एक चिमनी भी थी। यह घर तेज हवाओं का सामना कर सकता था।

कुछ दिनों बाद एक भेड़िया उस गली से गुजरा जहां तीनों सूअर रहा करते थे।

उसने सबसे पहले घास-फूस से बना हुआ सूअर का घर देखा। उसने उस घास-फूस से बने घर के अंदर सूंघा, तो उसे सूअर की गंध आई।

उसने सोचा कि सूअर एक बढ़िया भोजन है और उसके मुंह से पानी आने लगा।

उसने दरवाजा खटखटाया और कहा,

“ओ छोटे सूअर, ओ छोटे सूअर,
मुझे अंदर आने दो, मुझे अंदर आने दो”

लेकिन छोटे सूअर ने अपने घर के दरवाजे के की-होल से भेड़िये के बड़े पंजे देख लिए।

इसलिए उसने वापस उत्तर दिया,

“नहीं नहीं, नहीं नहीं,
मैं तो छोटा सा बच्चा हूं, तुम मुझे छोड़ दो”

फिर भेड़िया ने अपने दांत दिखाएं और कहा,

“तुम मुझे अंदर नहीं आने दोगे,
मैं तुम्हारा घर तोड़ दूंगा और तुम्हें पकड़ लूंगा”

बेचारा छोटा सूअर डर गया। भेड़िये ने उसके घर को तोड़ दिया। उसने आपने जबड़े को खोला और सूअर को खाने के लिए उसपर कूदा। लेकिन छोटा सूअर बच गया और दूसरे छोटे सूअर के घर में जाकर छुप गया।

अब भेड़िया दूसरे छोटे सूअर के घर के पास गया, जो लकड़ी से बना हुआ था। उसने घर को देखा और उसने उसके घर को सूंघा, तो उसको दो सूअरों की गंध आई।

उसके मुंह में पानी आने लगा। वह सोचने लगा कि आज रात तो बढ़िया भोजन हो जाएगा। मुझे दो-दो सूअर खाने को मिल जाएंगे।
उसने दरवाजा खटखटाया और कहा,

“ओ छोटे सूअर, ओ छोटे सूअर,
मुझे अंदर आने दो, मुझे अंदर आने दो”

लेकिन छोटे सूअर ने अपने घर के दरवाजे के की-होल से भेड़िये के नुकीले कानों को देख लिए।

इसलिए उसने वापस उत्तर दिया,

“नहीं नहीं, नहीं नहीं,
मैं तो छोटा सा बच्चा हूं, तुम मुझे छोड़ दो”

फिर भेड़िया ने अपने दांत दिखाएं और कहा,

“तुम मुझे अंदर नहीं आने दोगे,
मैं तुम्हारा घर तोड़ दूंगा और तुम्हें पकड़ लूंगा”

बेचारे छोटे सूअर डर गए, भेड़िए ने उनके घर को उड़ा दिया। भेड़िया बहुत लालची था उसने सोचा किया वह दोनों सूअरों को एक साथ खा जाएगा।

उसने अपने जबड़े खोलें और वह भेड़िया सूअरों को खाने के लिए आगे बड़ा, लेकिन छोटे सूअर अपने नन्हें-नन्हें पैरों से वहां से भाग गए और वह जाकर तीसरे छोटे सूअर के घर में छुप गए, जो ईंट से बना हुआ था।

भेड़िया ने उनका पीछा किया अब वह ईंट से बने सूअर के घर के बाहर खड़ा था। छोटे सूअर ने दरवाजा बंद कर दिया। तीन छोटे सूअर बहुत डरे हुए थे।

उन्हें पता था कि भेड़िया उन्हें खाना चाहता है और यह सच भी था भेड़िया दिन भर भूखा था। सूअरों का पीछा करते-करते भेड़िया की भूख और ज्यादा बढ़ गई थी।

उसने अब दरवाजे से सूंघा, तो उसे तीन सूअरों की गंध आई। उसने सोचा कि तीन सूअरों को खाने में तो उसकी आज दावत हो जाएगी।

उसने दरवाजा खटखटाया और कहा,

“ओ छोटे सूअर, ओ छोटे सूअर,
मुझे अंदर आने दो, मुझे अंदर आने दो”

लेकिन छोटे सूअर ने अपने घर के दरवाजे के की-होल से भेड़िये के बड़ी सी आंखें को देख लिए।

इसलिए उसने वापस उत्तर दिया,

“नहीं नहीं, नहीं नहीं,
मैं तो छोटा सा बच्चा हूं, तुम मुझे छोड़ दो”

फिर भेड़िया ने अपने दांत दिखाएं और कहा,

“तुम मुझे अंदर नहीं आने दोगे,
मैं तुम्हारा घर तोड़ दूंगा और तुम्हें पकड़ लूंगा”

भेड़िये ने गुस्से से घर को गिराने की कोशिश की लेकिन इस बार भेड़िया ईंटों से बने घर को नहीं गिरा सका। तो फिर भेड़िया गुस्से से आगबबूला हो गया और वह उस घर के चारों तरफ घूमने लगा।

फिर भेड़िए ने सोचा क्यों ना मैं इस चिमनी से मकान के अंदर चले जाता हूं और छोटे सूअरों को खा जाता हूं।

अब भेड़िया उस घर के ऊपर चढ़ने लगा और चिमनी से उस घर के अंदर घुसने लगा। जैसे ही भेड़िया चिमनी से नीचे आ रहा था, छोटे सूअर ने चिमनी के नीचे आग जला दी और उसके ऊपर एक बड़ा सा बर्तन रख दिया।

जिसमें पानी भरा हुआ था। वह पानी खौल रहा था। भेड़िया जैसे ही अंदर आया, वह सीधे उस खौलते हुए पानी के बर्तन में गिरा, जिससे भेड़िया मर गया और छोटे सूअर ने उस बर्तन के ऊपर ढक्कन लगा दिया।

आज रात उन्होंने उस भेड़िये को खाकर अपनी भूख मिटाई।

Three Little Pigs Story In Hindi से हमने क्या सीखा:

Three Little Pigs Story In Hindi से यह सीख मिलती है  की हमने किसी भी कार्य को पूरा मन लगा के करना चाहिए। कभी भी लापरवाही से किसी कार्य को नहीं करना चाहिए। 

तो दोस्तों आपको हमारी Three Little Pigs Story In Hindi कैसी लगी ? हमें कमेंट मे जरूर बताइएगा , धन्यवाद 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *